Saturday, December 3, 2016

Never allow relations to get soured

 Never  allow relations   to get soured

Translated   from Hindi by

Water   made   friendship with milk,
And completely   got mixed   with it,
And when milk saw   the dedication  of water.
It told, “ Oh friend, You   have completely given up,
Your form and have   assumed my form.
I would   also show   my friendship,
By making    you as costly   as me ,
As long   as you   are   mingled with me.”

After that milk  was sold   some one tried  to boil it,
And  the water told, “ To avoid   this suffering ,
I would  go away first  , so that they will put out the fire.”
And after   water did that , milk felt bad  ,
That his friend   has been separated  from  him,
And it rose up  in the vessel so that,
The fire   that was separating  them  was put out,
And them some  one sprinkled   some water on it,
And after  getting back his friend , milk became calm

But if  some one  puts  instead of water  drops  of lime juice ,
The   water  and milk   get separated  completely,
Braking   their friendship  in a irreversible manner,
Proving   that when  thick  friendship  is little  soured ,
That   great  friendship completely breaks   down.
And so   never  allow   any  relationship get soured.

The original   text in Hindiपानी ने दूध से मित्रता की और उसमे समा गया..
जब दूध ने पानी का समर्पण देखा तो उसने कहा-
मित्र तुमने अपने स्वरुप का त्याग कर मेरे स्वरुप को धारण किया है....
अब मैं भी मित्रता निभाऊंगा और तुम्हे अपने मोल बिकवाऊंगा।
दूध बिकने के बाद
जब उसे उबाला जाता है तब पानी कहता है..
अब मेरी बारी है मै मित्रता निभाऊंगा
और तुमसे पहले मै चला जाऊँगा..
दूध से पहले पानी उड़ता जाता है
जब दूध मित्र को अलग होते देखता है
तो उफन कर गिरता है और आग को बुझाने लगता है,
जब पानी की बूंदे उस पर छींट कर उसे अपने मित्र से मिलाया जाता है तब वह फिर शांत हो जाता है।
इस अगाध प्रेम में..
थोड़ी सी खटास-
(निम्बू की दो चार बूँद)
डाल दी जाए तो
दूध और पानी अलग हो जाते हैं..
थोड़ी सी मन की खटास अटूट प्रेम को भी मिटा सकती है।

रिश्ते में..
खटास मत आने दो॥

No comments: